अभी-अभी आपको धर्म की याद कैसे आई? हसन मियां की उलटी गिनती शुरू, हिसाब तो होना ही है : किरीट सोमैया

47
Kirit Somaiya-Hasan Mushrif

Kirit Somaiya Vs Hasan Mushrif : मुंबई: ईडी ने कार्रवाई शुरू कर दी है, और हसन मियां का काउंटडाउन शुरू हो गया है। मैं महालक्ष्मी के दर्शन करने आया था तब मुझे जबरदस्ती रोका गया था, हसन मियां को हिसाब देना पड़ेगा।

जब आपने मुझे दर्शन लेने से रोका तो क्या तब आपको धर्म याद नहीं आया? जब आप गरीबों का पैसा खा रहे थे तो आपको धर्म याद नहीं आया? अब ईडी ने कार्रवाई शुरू करने के बाद ही धर्म को क्यों याद किया? यह सवाल बीजेपी नेता किरीट सोमैया ने पूछा है। किरीट सोमैया ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की और हसन मुश्रीफ के घोटालों का विवरण पढ़ा।

मुझे कोल्हापुर नहीं जाने दिया गया, लेकिन आज महालक्ष्मी माता ने कृपा की। हसन मुश्रीफ की उलटी गिनती शुरू हो गई है। कंपनी रजत कंज्यूमर सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड से मुश्रीफ परिवार के खाते में 13 करोड़ आए।

यह पैसा 2013 में आया था। यह कंपनी 2004 में ही बंद हो गई थी। मुश्रीफ परिवार को एक गैर-मौजूद कंपनी से पैसा कैसे मिलता है और वह चीनी (शुगर मिल) कारखाने में चला जाता है? ये चमत्कार कैसे किया यह सवाल किरीट सोमैया ने पूछा है।

मुश्रीफ परिवार के 24 करोड़ 75 लाख रुपए कंपनी माउंट कैपिटल प्राइवेट लिमिटेड से आए। यह कंपनी मौजूद नहीं है, यह बंद है। उनके नाम से खाता खोला गया था।

उसका पैसा मुश्रीफ द्वारा भुगतान किया जाता है, जिसके बाद सारा पैसा मुश्रीफ के खाते में चला जाता है। सोमैया ने दावा किया कि तब पैसे का इस्तेमाल रियल एस्टेट और कारखानों के लिए किया गया था।

जन कंसल्टेंट कंपनी में मुश्रीफ के खाते में 16 करोड़ रुपए आए। मुश्रीफ ने कहा कि कोल्हापुर के गरीब किसानों ने शेयर के रूप में पैसा लगाया।

यह एक ऐसी कंपनी का पैसा है जो मौजूद नहीं है, उन्होंने यह भी कहा कि मुश्रीफ ने अपने दामाद को 1500 करोड़ का ठेका दिया था।

मैं कोल्हापुर जा रहा था, मैं फैक्ट्री जा रहा था। उस दिन गणेश विसर्जन होता है। उस समय मुझे गणेश विसर्जन में जाने की अनुमति नहीं थी। हसन मियां को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए।

हसन मियां को अब धर्म की याद आई, तब धर्म की याद नहीं आयी, जब मैं महालक्ष्मी के दर्शन के लिये जा रहा था? गरीबों का पैसा खाना कोई धर्म नहीं है, धर्म दर्शन से रोकना भी नही है, अब मिया को धर्म याद आया है? ये कैसा आपका धर्म है, ऐसा उन्होंने यह सवाल भी किया।

ब्रिक्स और घोरपड़े के कारखाने आपस में जुड़े हुए हैं, यह सब मियां की उपलब्धि और कमाल है। इसलिए उन्होंने तत्कालीन ग्रामीण विकास सचिव राजेश कुमार मीणा के साथ मुश्रीफ की जांच करने की मांग मुख्यमंत्री व उपमुख्यमंत्री से की है।