NOTAM System : क्या साइबर अटैक से पूरे अमेरिका में ठप हो गईं फ्लाइट सेवाएं? जानिए विशेषज्ञ क्या कहते हैं

36
NOTAM System: Did cyber attack stop flight services across America? Know what the experts say

NOTAM System: यूएस फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन के नोटिस टू एयर मिशन सिस्टम (NOTAM) में गड़बड़ी के कारण हवाई सेवाएं बुरी तरह प्रभावित हुईं। यहां सैकड़ों उड़ानें विलंबित रहीं।

फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन के अनुसार, एयर ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम कमांड सेंटर की एक सलाह के कारण NOTAM में खराबी आ गई। तकनीकी विशेषज्ञ फिलहाल इसे ठीक करने में लगे हैं। आपको बता दें कि इतिहास में पहली बार नोटिस टू एयर मिशन सिस्टम में खराबी आई है.

आइए जानते हैं क्या है नोटिस टू एयर मिशन सिस्टम (NOTAM) जिसकी वजह से अमेरिका में उड़ानें रोकी गईं? NOTAM फेल क्यों हुआ, इस पर एविएशन एक्सपर्ट का क्या कहना है? इसे ठीक करने के लिए क्या किया जा रहा है? इस मामले पर अमेरिकी प्रशासन की क्या प्रतिक्रिया थी?

NOTAM क्या है जिसके कारण अमेरिका में उड़ानें बंद हो गईं?

नोटिस टू एयर मिशन सिस्टम एक तरह का कम्युनिकेशन सिस्टम है, जिसकी मदद से फ्लाइट में मौजूद केबिन क्रू को अहम जानकारियां भेजी जाती हैं। यह एक बहुत ही गुप्त सूचना प्रणाली है, जिसमें सेंध लगाना बहुत मुश्किल है।

नोटिस टू एयर मिशन सिस्टम के तहत विमान के पायलट को मौसम, ज्वालामुखी विस्फोट, हवाई क्षेत्र में प्रतिबंध, पैराशूट जंप, रॉकेट लॉन्च और सैन्य अभ्यास जैसी बेहद संवेदनशील और महत्वपूर्ण सूचनाएं भेजी जाती हैं।

ताकि हवाई यात्रा के दौरान विमान को किसी तरह की अप्रिय घटना का सामना न करना पड़े। साथ ही इस सूचना प्रणाली से विमान के पायलट को हवाईअड्डों की स्थिति जैसे बर्फबारी, रोशनी में गड़बड़ी या रनवे पर किसी पक्षी की मौजूदगी के बारे में सूचित किया जाता है।

यूएस फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन (एफएए) का नोटिस टू एयर मिशन सिस्टम पायलटों और अन्य उड़ान कर्मियों को खतरों या हवाई अड्डे की सुविधा सेवाओं में किसी भी बदलाव के लिए सचेत करता है।

इसके जरिए सामान्य प्रक्रियाओं को भी अपडेट किया जाता है। आज इसके जरिए कोई जानकारी साझा नहीं की जा रही थी। इस वजह से पूरे अमेरिका में विमान सेवाएं ठप हो गईं। सभी उड़ानें जमीन पर रहीं।

NOTAM फेल क्यों हुआ, इस पर एविएशन एक्सपर्ट का क्या कहना है?

NOTAM मामले पर एविएशन एक्सपर्ट संजय जैन ने कहा कि शुरुआत में इसमें साइबर अटैक की पुष्टि नहीं हुई थी, लेकिन इससे इनकार भी नहीं किया जा सकता है. क्योंकि चीन और रूस से अमेरिका के संबंध पहले से अच्छे नहीं रहे हैं.

यह संभव है कि हैकर्स परीक्षण के तौर पर हमला करने की कोशिश कर रहे हों ताकि यह देखा जा सके कि यह कितना व्यापक हो सकता है। हाल के दिनों में अमेरिका में कई इलाकों में इस तरह की घटनाएं सामने आ चुकी हैं।