कौन हैं बागेश्वर धाम के धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री, जो कहते हैं ‘हाथी चले बाजार, कुत्ते भौंके हजार; क्या है पूरा विवाद

23
Who is Dhirendra Krishna Shastri of Bageshwar Dham, what is the whole controversy

Pandit Dhirendra Krishna Shastri of Bageshwar Dham : मध्यप्रदेश के बागेश्वर धाम सरकार के पीठाधीश्वर पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का विवादों से पुराना नाता रहा है। वह एक बार फिर सुर्खियों में हैं। धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री पर आरोप है कि उन्होंने कहानी को बीच में ही नागपुर में छोड़ दिया था।

वहीं, धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री भी लगातार अपने विरोधियों को जवाब दे रहे हैं। फिलहाल उनकी कहानी छत्तीसगढ़ के रायपुर में चल रही है। दावा किया जाता है कि बागेश्वर धाम में भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

बागेश्वर धाम सरकार पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री की कथा को आयोजित करने को लेकर नेताओं में होड़ मची हुई है। दावा किया जाता है कि बागेश्वर धाम आने वाले श्रद्धालुओं की सभी मनोकामनाएं बागेश्वर धाम सरकार पूरी करती है।

दरअसल मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के बागेश्वरधाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री पर कहानी छोड़कर नागपुर से भागने का आरोप लगा था, इसके बाद उन्होंने पलटवार करते हुए कहा, हाथी चले बाजार, कुत्ते भौंके हजार।

चमत्कार को चुनौती देने वालों को जवाब देते हुए धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने यह कहावत कही। नागपुर में कथा सुनाकर बागेश्वरधाम लौटे धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने आगे कहा, ‘हम वर्षों से कहते आ रहे हैं कि हम न तो चमत्कार करने वाले हैं और न ही गुरु। हम बागेश्वरधाम सरकार बालाजी के सेवक हैं।

कौन हैं धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री?

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का जन्म 4 जुलाई 1996 को मध्य प्रदेश के छतरपुर के पास गढ़गंज गाँव में हुआ था। उसी गढ़गंज में उनका पूरा परिवार रहता है। बागेश्वर धाम का प्राचीन मंदिर यहां स्थित है। उनका पुश्तैनी घर भी यहीं है।

उनके दादा पंडित भगवान दास गर्ग (सेतु लाल) भी यहीं रहते थे। कृष्ण शास्त्री के दादाजी ने चित्रकूट के निर्मोही अखाड़ा से दीक्षा प्राप्त की थी, जिसके बाद वे गढ़ा गांव पहुंचे.

जहां उन्होंने बागेश्वर धाम मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया। धीरेंद्र कृष्ण के दादा भी यहां दरबार लगाया करते थे। उन्होंने सन्यास आश्रम ले लिया था।

वहीं, धीरेंद्र महाराज के माता-पिता और एक छोटा भाई भी उनके गाड़ागंज स्थित पुश्तैनी मकान में रहते हैं. उनके पिता का नाम रामकृपाल गर्ग था, कहा जाता है कि वे नशे के आदी थे।

इस वजह से उन्होंने ज्यादा काम नहीं किया। जबकि, उनकी माता का नाम सरोज गर्ग था, वे धीरेंद्र के छोटे भाई शालिग्राम गर्ग जी महाराज हैं। वह भी बालाजी बागेश्वर धाम को समर्पित है।

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री पर आरोप लगाया है

गौरतलब है कि बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री पर अंधविश्वास को बढ़ावा देने का आरोप लगा है. उसके खिलाफ नागपुर में पुलिस केस दर्ज किया गया था। यह मामला नागपुर की अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति ने दर्ज कराया है।

कमेटी का कहना है कि अगर पुलिस इस मामले में कार्रवाई नहीं करती है तो वह कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगी। वहीं धीरेंद्र शास्त्री ने पलटवार करते हुए कहा कि यह सब धर्म विरोधी लोगों की करतूत है.

बीजेपी के कपिल मिश्रा बागेश्वर धाम के समर्थन में उतरे और कहा कि धर्म परिवर्तन रोकने के लिए उन पर हमला किया जा रहा है. मिश्रा ने ट्वीट किया, ‘देशद्रोही और हिंदू विरोधी गिरोह के पेट में दर्द होना चाहिए।’

जानिए क्या है बागेश्वर धाम सरकार का इतिहास?

मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले में एक तीर्थस्थल स्थित है। इसे बागेश्वर धाम सरकार के नाम से जाना जाता है। बागेश्वर धाम भगवान बालाजी को समर्पित एक मंदिर है।

बागेश्वर धाम महाराज के इस प्रसिद्ध मंदिर में देश के कोने-कोने से हजारों लोग दर्शन करने आते हैं। कहा जाता है कि यह मंदिर वर्षों पुराना है। इस मंदिर का जीर्णोद्धार 1986 में किया गया था।

इसके बाद सन् 1987 के आसपास वहाँ एक संत का आगमन हुआ, जो बब्बा जी सेतु लाल जी महाराज के नाम से जाने गए। उन्हें भगवान दास जी महाराज के नाम से भी जाना जाता था।

इसके बाद 1989 में बागेश्वर धाम में बाबा जी द्वारा विशाल महायज्ञ का आयोजन किया गया। 2012 में बागेश्वर धाम के सिद्ध पीठ में श्रद्धालुओं की समस्याओं के समाधान के लिए दरबार शुरू किया गया था। बागेश्वर धाम में लोगों की समस्याओं का निवारण होने लगा।