सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत की जरूरत नहीं : राहुल गांधी पर बरसे दिग्विजय सिंह

22
I can't go to RSS office even if my throat is cut: Congress leader Rahul Gandhi

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने पुलवामा हमले और सर्जिकल स्ट्राइक पर दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) के बयान से खुद को अलग कर लिया है। राहुल गांधी ने कहा, दिग्विजय सिंह ने जो कहा उससे वह सहमत नहीं हैं। राहुल गांधी ने कहा कि मुझे सेना पर पूरा भरोसा है।

देश की सेना कोई भी ऑपरेशन करे, उसका सबूत देने की जरूरत नहीं है। इतना ही नहीं राहुल ने कहा कि दिग्विजय सिंह पार्टी से ऊपर नहीं हैं। दरअसल कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि पुलवामा में हमारे सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए हैं।

सीआरपीएफ के अधिकारियों ने पीएम मोदी से सभी जवानों को एयरलिफ्ट करने की गुजारिश की थी, लेकिन पीएम मोदी नहीं माने. ऐसी गलती कैसे हुई? उन्होंने कहा, आज तक पुलवामा पर संसद के सामने कोई रिपोर्ट नहीं रखी गई है। उन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक होने का दावा किया, लेकिन सबूत नहीं दिखाया। वे (भाजपा) केवल झूठ फैलाते हैं।

राहुल गांधी ने कहा- यह दिग्विजय सिंह का निजी बयान  

राहुल गांधी के नेतृत्व में भारत जोड़ो यात्रा इस समय जम्मू-कश्मीर में है। जम्मू में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर राहुल गांधी ने कई मुद्दों पर बात की। इस दौरान जब राहुल गांधी से दिग्विजय सिंह के बयान को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि यह दिग्विजय सिंह का निजी बयान है. मैं उनके बयान से सहमत नहीं हूं। मुझे देश की सेना पर पूरा भरोसा है।

राहुल गांधी ने कहा, कांग्रेस पार्टी ने देश को आजादी दी है। देश के तमाम संस्थान बन चुके हैं। देश कांग्रेस की विचारधारा पर बना है। जब हम अंग्रेजों से लड़ रहे थे तो भाजपा और आरएसएस के लोग अंग्रेजों के साथ खड़े थे।

कांग्रेस ने पल्ला झाड़ा

सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाते हुए कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पूरी तरह से घिर गए हैं। इससे पहले कांग्रेस ने भी उनके बयान से खुद को अलग कर लिया है।

पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने कहा- दिग्विजय सिंह की टिप्पणी उनके ‘निजी विचार’ हैं और पार्टी ने उनका समर्थन नहीं किया है। सर्जिकल स्ट्राइक 2014 से पहले यूपीए सरकार ने की थी। सैन्य कार्रवाइयाँ जो राष्ट्रहित में हैं, कांग्रेस ने सभी का समर्थन किया है और आगे भी करती रहेगी।