भारत आपकी जागीर नहीं है, आप कौन हैं? मोहन भागवत के बयान पर भड़के कांग्रेस नेता, फिर यूजर्स ने खींची खिंचाई

33
Congress leaders got angry on Mohan Bhagwat's statement, then users started pulling

RSS संघ प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat, RSS) ने एक इंटरव्यू में कहा है कि, यह सीधा-सादा सच है कि भारत को भारत ही रहना चाहिए। आज भारत में रहने वाले मुसलमानों को कोई खतरा नहीं है।

इस्लाम को डरने की कोई बात नहीं है, लेकिन साथ ही मुसलमानों को अपनी श्रेष्ठता से जुड़े कट्टर बयानों को छोड़ देना चाहिए। इस पर कांग्रेस नेता उदित राज ने पलटवार किया है।

उदित राज ने मोहन भागवत पर क्या कहा?

Congress leader got angry on Mohan Bhagwat's statement, then users pulled him

उदित राज कांग्रेस ने ट्वीट किया है कि “भागवत जी, भारत आपकी जागीर नहीं है। यह कहना कि मुसलमान अपनी श्रेष्ठता छोड़ दें और डरने की कोई जरूरत नहीं है।

जबरन दबदबे का आरोप लगाने वाले और सुरक्षा की बात करने वाले, कौन हो तुम? उदित राज के इस ट्वीट पर सोशल मीडिया पर कई लोग अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।”

मोहन भागवत होते कौन हैं, जो मुसलमानों को भारत में रहने की इजाजत देते है : RSS प्रमुख के बयान पर भड़के ओवैसी

 

यूजर्स की प्रतिक्रियाएं

@ajaysin96860334 यूजर ने लिखा कि मनमोहन सिंह ने कैसे कहा कि देश के संसाधनों पर पहला हक मुस्लिमों का है, वो कांग्रेस के राज में यही समझ बैठे, ये भ्रम भी उनको कांग्रेस ने ही समझाया, जबकि संसाधन सबके हैं।

@Ranjeet77600434 यूजर ने लिखा कि आप होते कौन हैं भागवत को सलाह देने वाले? पहले कांग्रेस पार्टी जो हिंदू और आरएसएस विरोधी अभियान चलाकर वोटबैंक की राजनीति कर रही है, वो बंद करो।

@Anshuma40208584 यूजर ने लिखा कि इनकी बातों को तो कांग्रेस भी महत्व नहीं देती। अपना दिमाग, समय और डेटा खर्च न करें।

@RameshK33894419 यूजर ने लिखा कि भागवत जी से इस तरह का सवाल करने वाले आप होते कौन हैं?

@Mahendr58331166 यूजर ने लिखा कि भारत जागीर तो आपकी भी नहीं है। जैसे आप भारत के नागरिक हैं वैसे ही भागवत भी हैं। जो नागरिक अधिकार आपके हैं वहीं दूसरों के भी हैं।

बता दें कि RSS के मुखपत्र ऑर्गनाइजर और पांचजन्य को दिए एक इंटरव्यू में मोहन भागवत ने कहा है कि, भारत में मुसलमानों को डरने की कोई बात नहीं है, लेकिन उन्हें अपनी श्रेष्ठता के बारे में अपनी बयानबाजी छोड़ देनी चाहिए।

संघ प्रमुख (आरएसएस) ने कहा कि दुनिया भर के हिंदुओं में एक तरह की आक्रामकता दिखाई दे रही है, क्योंकि 1000 साल से युद्ध कर रहे इस समाज में एक जागृति आई है।

इसे भी पढे